निष्काम कर्म,भक्ति, योग और ध्यान से तनाव मुक्त रहे : स्वामी सर्वप्रियनंद जी

Share this post

एन एच 3 स्थित डी ए वी शताब्दी कॉलेज फरीदाबाद के आध्यात्मिक क्लब द्वारा अंतराष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया गया। जिसका विषय –“वेदांता के माध्यम से तनाव पर संतुलन और आंतरिक ख़ुशी” था | बतौर मुख्य वक्ता न्यूयोर्क स्थित वेदांता सोसाइटी के मिनिस्टर व् लीडर स्वामी सर्वप्रियनंद ने सभी को सम्बोधित किया |

कॉलेज आध्यात्मिक क्लब की इंचार्ज व् वेबिनार की संयोजिका डॉ विजयवन्ति मुख्या वक्ता परिचय करवाते हुए अभिवादन किया साथ ही उन्होंने बताया की वेदांत सोसाइटी स्वामी विवेकानंद द्वारा न्यूयोर्क में स्थापित संस्था है। डॉ विजयवन्ति ने देश विदेश से जुड़े सभी लोगो का अभिवादन किया |

कॉलेज की कार्यवाहक प्राचार्या डॉ सविता भगत ने सभी को स्वामी जी के जीवन के अनुभवों और उनके विचारों से ज्ञान लेने के साथ-साथ उसे अमल में लाने की इच्छा जाहिर की |

स्वामी सर्वप्रियनंद जी ने बताया की शिक्षा एक निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है जो हमारे शारीरिक , मानसिक, सामाजिक और अधाय्त्मिक और अनेक अन्य पहलुओं को प्रभावित करती है | सही और सटीक ज्ञान की प्राप्ति करना एक चिंता मुक्त और खुशहाल जीवन जीने का सरल उपाय है उन्होंने सभी श्रोताओं को अध्यात्मिक ज्ञान का महत्व बताते हुए प्रत्येक मनुष्य को चार प्रमुख बातों पर ध्यान देने को कहा उन्होंने कहा कि निष्काम कर्म, भक्ति, योग और ध्यान ज्ञान के माध्यम से ही आजकल के इस तनाव युक्त दिनचर्या से हम अपने आप को मुक्त रख सकते हैं उन्होंने सभी को ईश्वर के प्रति सच्चा प्रेम और अटूट विश्वास की भावना और निश्चल भक्ति भाव को बनाए रखने की शिक्षा दी ।

कहानियों के माध्यम से उन्होंने आंतरिक खुशी के मुख्य स्रोत के बारे में बताया । उन्होंने बताया कि दूसरों को खुश रख कर जो खुशी प्राप्त होती है उसका एहसास और उसकी स्मृति हमेशा- हमेशा के लिए हमारे हमारे मन मस्तिष्क में बनी रहती है लेकिन स्वयं को खुश रखने के लिए जो कार्य किए जाते हैं उस खुशी की अनुभूति कुछ क्षणों की प्रसन्नता देती है और धीरे-धीरे हमारे मस्तिष्क से विलुप्त हो जाती है इस दिव्य ज्ञान को लगभग 700 से अधिक लोगों ने सुना और स्वयं को स्वामी जी के बहुमूल्य विचारों से लाभान्वित किया |


वास्तव में एक प्रसन्न शांत और ज्ञानी व्यक्ति ही अपने प्रेम भक्ति और वचन से ना केवल समाज बल्कि राष्ट्र का उत्थान करने में सहयोग देता है | इसी उद्देश्य से सभी शिक्षकों और छात्रों को अध्यात्मिक ज्ञान से जोड़ने के लिए कॉलेज के द्वारा एक सफल कोशिश की गई |
कार्यक्र्म अध्यक्ष डी ए वी कॉलेज मैनेजिंग कमिटी के निदेशक उच्चतर शिक्षा व् सेवानिवृत आई ए एस श्री शिव रमण गौड़ जी निजी कारणवश नहीं जुड़ पाए | इस अंतरराष्ट्रीय वेबीनार को धाराप्रवाह संचालित करने में आईटी सेल इंचार्ज सरोज कुमार और कार्यक्रम के कार्यकारिणी सचिव प्रमोद कुमार, प्रिया कपूर, रितु सचदेवा की मुख्य भूमिका रही |


Share this post